तांडव वेब सीरीज : सुप्रीम कोर्ट ने तांडव की टीम को लगाया फटकार, कहा अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पे कुछ भी नही दिखा सकते

0
366

सुप्रीम कोर्ट ने गिरफ्तारी पर रोक लगाने से किया मना, कहा राहत के लिए उच्च न्यायालय जाए

तांडव वेब सीरीज के टीम को आज भी सुप्रीम कोर्ट से कोई राहत नहीं मिली। सुप्रीम कोर्ट ने गिरफ्तारी पर रोक लगाने से इनकार कर दिया और कहा की राहत के लिए हाईकोर्ट जाएं। वहीं तांडव वेब सीरीज की टीम के खिलाफ देश भर में जितने भी मामले दर्ज है उनको आपस में जोड़ने पर सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी किया। ईस मामले पर अगली सुनवाई  अब चार हफ्ते बाद होगी।

तांडव वेब सीरीज की टीम ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खट खटाया

तांडव वेब सीरीज को लेकर विवाद थम नही रहा उल्टा और बढ़ता ही जा रहा है, कई राज्यों में विरोध हो रहा है, और तांडव की टीम पर एफआईआर दर्ज किया जा रहा हैं। इस सब के बाद अब तांडव वेब सीरीज टीम के अमेजन प्राइम इंडिया की प्रमुख अपर्णा पुरोहित, निर्माता हिमांशु कृष्ण मेहरा, लेखक गौरव सोलंकी और अभिनेता जीशान अयूब ने सुप्रीम कोर्ट मे याचिका दायर की है।

सुप्रीम कोर्ट ने एफआईआर को रद्द करने से इंकार कर दिया

तांडव वेब सीरीज की टीम की याचिका पर बुधवार को सुप्रीम कोर्ट मे सुनवाई हुई, याचिका में तांडव वेब सीरीज के खिलाफ देश भर में दर्ज एफआईआर को रद्द करने की मांग की गई। सुप्रीम कोर्ट ने टीम की अग्रिम जमानत और एफआईआर को रद्द करने से इनकार करते हुए कहा कि इसके लिए उन्हे उच्च न्यायालय जाना होगा, इस मामले पर वहीं फैसला होगा।

तांडव 16 जनवरी को रिलीज होने के बाद से ही विवादो मे घीरी हुई है

बता दे की 16 जनवरी को तांडव वेब सीरीज ओटीटी प्लेटफार्म अमेजन प्राइम वीडियो पर रिलीज की गयी थी, जिसके बाद से यह लगातार विवाद मे घिरी हुई है, तांडव के निर्माताओ पर आरोप ये है की वो उन्होंने तांडव वेब सीरीज के माध्यम से समुदाय विशेष की धार्मिक भावनाओं को आहत किया है।

जीशान अयूब ने कहा ‘मै एक अभिनेता हूँ मुझसे भूमिका निभाने के लिए संपर्क हुआ था’

बुधवार को सुनवाई के दौरान अभिनेता जीशान अयूब ने कहा, मैं एक अभिनेता हूँ मुझसे भूमिका निभाने के लिए संपर्क हुआ था, इस पर सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने कहा, ‘आपकी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता असीमित नहीं है, आप ऐसा किरदार नहीं निभा सकते हैं जो एक समुदाय की भावनाओं को आहत करता हो’।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here